मुस्कान ने तड़प बयां कर दी,

नज़रों ने रौशन जहां कर दीं,

शब्दों की चाहत कमबख्त ऐसी,

ना वो कुछ सुन पाए,

ना हम कुछ कह पाए|

Advertisements